Home | About Us | Our Mission | Downloads | Contact Us |  
| Guest | Register Now
 
SERVICES
History of Jainism
Jain Ascetics
Jain Lectures
Jain Books/Litrature
24 Jain Tirthankars
Shalaka Purush
Jain Acharyas
Puja Sangrah
Vidhan
Jinvani Sangrah
Tithi Darpan
Jain Bhajan
Jain Video
Mother's 16 Dreams
Vidhan Mandal & Yantra
Wallpapers
Jain Manuscripts
Jain Symbols
Digamber Jain Teerths
Committee
Bidding
Virginia Jain Temple
 
DOWNLOADS
Books
Chaturmas List
Jain Calendar
Choughariya
Puja Paddhati
Subscribe For Newsletter
 
 
 
 
 
श्री पार्श्‍वनाथ जिनपूजन

श्री पार्श्‍वनाथ जिनपूजन

गीता छन्द

वर स्वर्ग प्राणत को विहाय, सुमात वामा सुत भये,

अश्‍वसेन के पारस जिनेश्‍वर, चरन जिनके सुर नये |

नौ हाथ उन्नत तन विराजै, उरग लच्छन पद लसैं,

थापूँ तुम्हें जिन आय तिष्ठो कर्म मेरे सब नसैं ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्र ! अत्र अवतरतु अवतरतु संवौषट् |

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्र ! अत्र तिष्ठतु तिष्ठतु ठ: ठ: |

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्र ! अत्र मम सन्निहितो भवतु भवतु वषट् |

अथाष्टक छन्द नाराच

क्षीरसोम के समान अम्बुसार लाइए |

हेमपात्र धारिकैं सु आपको चढ़ाइए |

पार्श्‍वनाथ देव सेव आपकी करूँ सदा |

दीजिये निवास मोक्ष भूलिए नहीं कदा ॥

ॐ ह्रीं श्री पार्श्‍वनाथ जिनेन्द्राय जन्मजरामृत्युविनाशनाय जलं निर्वपामि |

चंदनादि   केशरादि   स्वच्छ   गंध लीजिए |

आपचरण चर्च मोहताप को हनीजिए ॥पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्री पार्श्‍वनाथ जिनेन्द्राय भवातापविनाशनाय चंदनं निर्वपामि |

फेन चंद के समान अक्षतान् लाइकैं |   

चर्न के समीप सार पूंज को रचाइकैं ॥पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अक्षयपदप्राप्तये अक्षतान् निर्वपामि |

केवड़ा गुलाब और केतकी चुनाइए |

धार चर्न के समीप काम को नसाइए ॥ पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय कामबाणविध्वंसनाय पुष्पाणि निर्वपामि |

घेवरादि   बावरादि   मिष्ठ   सर्पि   में   सनें |  

आप चर्ण अर्चते क्षुधादि रोग को हनें ॥ पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय क्षुधारोगविनाशनाय नैवेद्यं निर्वपामि |

लाय रत्न दीप को सनेह पूर के भरूँ |

वातिका कपूर बारि मोह ध्वांत को हरूँ ॥ पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय मोहांधकारविनाशनाय दीपं निर्वपामि |

धूप गंध लेय कैं सुअग्नि संग जारिये |  

तास   धूप   के सुसंग   कर्म अष्ट वारिये ॥ पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अष्टकर्मदहनाय धूपं निर्वपामि |

खारकादि   चिर्भटादि रत्नथाल में भरूँ |   

हर्षधारिकैं जजूं सुमोक्ष सौख्य को वरूँ ॥पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय मोक्षफलप्राप्तये फलं निर्वपामि |

नीर गंध   अक्षतान्   पुष्प   चरु लीजिये | 

दीप धूप श्रीफलादि अर्घ तैं जजीजिये ॥पार्श्‍व. ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अनर्घपद-प्राप्तये अर्घं निर्वपामि |

पंचकल्याणक

शुभ प्राणत स्वर्ग विहाये, वामा माता उर आये |

वैशाख तनी दुति कारी, हम पूजें विघ्न निवारी ॥

ॐ ह्रीं वैशाखकृष्णद्वितीयायां गर्भम‘लमण्डिताय श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अर्घं |

जनमें त्रिभुवन सुखदाता, एकादशि पौष विख्याता |

श्यामा तन अद्भुत राजै, रवि कोटिक तेज सु लाजै ॥

ॐ ह्रीं पौषकृष्णैकादश्यां जन्ममङ्गलमण्डिताय श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अर्घं निर्वपामि|

कलि पौष एकादशि आई, तब बारह भावन भाई |

अपने कर लोंच सु कीना, हम पूजैं चरन जजीना ॥

ॐ ह्रीं पौषकृष्णैकादश्यां तपोम‘लमण्डिताय श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अर्घं निर्वपामि |

कलि चैत चतुर्थी आई, प्रभु केवल ज्ञान उपाई |

तब प्रभु उपदेश जु कीना,भवि जीवन को सुख दीना ॥

ॐ ह्रीं चैत्रकृष्णचतुर्थ्यां केवलज्ञानमण्डिताय श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अर्घं निर्वपामि |

सित सावन सातैं आई, शिवनारि वरी जिनराई |

सम्मेदाचल हरि माना, हम पूजैं मोक्ष कल्याना ॥

ॐ ह्रीं श्रावणशुक्लसप्तम्यां मोक्षमङ्गलमण्डिताय श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय अर्घं |

जयमाला

पारसनाथ जिनेन्द्र तने वच, पौनभखी जरते सुन पाये |

कर्यो सरधान लह्यो पद आन, भये पद्मावति शेष कहाये ॥

नाम प्रताप टरें संताप सु, भव्यन को शिवशर्म दिखाये |

हो अश्‍वसेन के नंद भले, गुण गावत हैं तुमरे हरषाये ॥

दोहा

केकी -कंठ समान छवि, वपु उतंग नव हाथ |

लक्षण उरग निहार पग, वंदौं पारसनाथ ॥

पद्धरि छन्द

रची नगरी षट् मास अगार,बने चहुँ गोपुर शोभ अपार |

सु कोट तनी रचना छवि देत, कंगूरन पै लहकैं बहुकेत ॥१ ॥

बनारस की रचना जु अपार, करी बहु भॉंति धनेश तैयार |

तहाँ विश्‍वसेन नरेन्द्र उदार, करैं सुख वाम सु दे पटनार ॥२ ॥

तज्यो तुम प्रानत नाम विमान, भये तिनके घर नंदन आन |

तबै सुर इंद्र नियोगनि आय,गिरीन्द करी विधि न्हौन सुजाय ॥३ ॥

पिता घर सौंप गये निज धाम, कुबेर करै वसु जाम सुकाम |

बढ़े जिन दोज मयंक समान, रमैं बहु बालक निर्जर आन ॥४ ॥

भये जब अष्टम वर्ष कुमार, धरे अणुव्रत महा सुखकार |

पिता जब आन करी अरदास, करो तुम ब्याह वरो मम आस ॥ ५ ॥

करी तब नाहिं रहे जग चंद, किये तुम काम कषाय जु मंद |

चढ़े गजराज कुमारन संग, सुदेखत गंगतनी सुतरंग ॥ ६ ॥

लख्यो इक रंक करै तपघोर, चहूँ दिशि अगनि बलै अति जोर |

कहै जिननाथ अरे सुन भ्रात, करै बहुजीवन की मत घात ॥ ७ ॥

भयो तब कोप कहै कित जीव, जले तब नाग दिखाय सजीव |

लख्यो यह कारण भावन भाय, नये दिव ब्रह्म-ऋषी सुर आय ॥ ८ ॥

तबहिं सुर चार प्रकार नियोग, धरी शिविका निजकंध मनोग |

कियो वन माँहिं निवास जिनंद, धरे व्रत चारित आनंदकंद ॥९ ॥

गहें तहँ अष्टम के उपवास, गये धनदत्त तने जु अवास |

दियो पयदान महासुखकार, भई पन वृष्टि तहाँ तिह वार ॥१० ॥

गये तब कानन मॉंहिं दयाल, धर्यो तुम योग सबहि अघ टाल |

तबै वह धूम सुकेतु अयान, भयो कमठाचर को सुर आन ॥११ ॥

करै नभ गौन लखे तुम धीर, जु पूरब बैर विचार गहीर |

कियो उपसर्ग भयानक घोर, चली बहु तीक्षण पवन झकोर ॥१२ ॥

रह्यो दशहूँ दिश में तम छाय, लगी बहुअग्नि लखी नहिं जाय |

सुरुण्डन के बिन मुण्ड दिखाय, पड़ें जल मूसलधार अथाय ॥ १३ ॥

तबै पद्मावति कंत धनंद, नये जुग आय तहाँ जिनचंद |

भग्यो तब रंक सु देखत हाल, लह्यो तब केवलज्ञान विशाल ॥१४ ॥

दियो उपदेश महा हितकार, सुभव्यन बोध सम्मेद पधार |

सुवर्णभद्र जू कूट प्रसिद्ध, वरी शिवनारि लही वसुरिद्ध ॥१५ ॥

जजूँ तुम चरन दोउ कर जोर, प्रभु लखिए अब ही मम ओर |

कहै ‘बखतावर रत्न’ बनाय, जिनेश हमें भव पार लगाय ॥१६ ॥

घत्ता

जय पारस देवं सुरकृत सेवं, वंदत चरण सुनागपती |

करुणा के धारी पर उपकारी, शिवसुखकारी कर्महती ॥१७ ॥

ॐ ह्रीं श्रीपार्श्‍वनाथजिनेन्द्राय पूर्णार्घं निर्वपामि |

अडिल्ल

जो पूजै मनलाय भव्य पारस प्रभु नित ही |

ताके दुख सब जाय भीति व्यापै नहिं कित ही ॥

सुख संपत्ति अधिकाय पुत्र मित्रादिक सारे |

अनुक्रमसौं शिव लहै, ‘रतन’ इमि कहै पुकारे ॥

पुष्पाञ्जलिं क्षिपेत्

IDJO SERVICES